lahol and Spiti valley

इमेज
 स्पीति घाटी  हिमाचल प्रदेश के राज्य में स्थित है यह   समन्दर तल से 12500 मीटर की ऊंचाई  पर है  स्पीति घाटी उच्च पर्वत और श्रृंखलाओं से गिरी हुई है स्पीति घाटी का अर्थ मध्य भूमि है अर्थात् भारत और तिब्बत के बीच की भूमि।  यहां का नजारा देखने पर्यटक दूर-दूर से आते हैं स्पीति घाटी  की खूबसूरत पहाड़ियां स्थिति को और ज्यादा खूबसूरत बनाती है लाहौल और स्पीति घाटी दोनों ही एक दूसरे से विभिन्न है। लाहौल घाटी की यात्रा के लिए परमिट प्राप्त करना बेहद मुश्किल है यहां की एक विशेष बात यह भी है कि  लाहौल ओर स्पीति की अपनी कोई मुख्य भाषा नहीं है यहां विभिन्न बोलियां बोली जाती हैं।यहां बौद्ध धर्म के लोग ज्यादा निवास करते है हिमाचल प्रदेश में किन्नौर ओर लौहोल स्पीति में ही ज्यादा बौद्ध धर्म के लोग निवास करते है। लाहौल शब्द को तिब्बती भाषा में (गार्जा) मतलब अज्ञात देश एवं मौन कहा जाता हैं  लाहौल घाटी में वास्तव में मिश्रित प्रजाति के लोग रहते हैं तिब्बती भाषा में लाहौल को लहोयुल   भी कहा जाता है तिब्बती शब्द लहोयुल  का अर्थ दक्षिणी देश से है  इसका अर्थ  है देवताओं का देश।   मठ का अर्थ मठ का अभिप्राय एक ऐ

Triund trek

 पहाड़ो और घाटियों के बिच तारो भरे आसमान के निचे 
राते गुजारने  में एक अलग  जिंदगी का मजा है।  
इस लिए में जब बी समय लगता है पहाड़ो की तरफ
 खींचे चले आते  है। 


 
बैसे तो हिमाचल सारा ही काफी खूबसूरत है।  लेकिन  कुछ जगह पर प्रकृति काफी मेहरबान होती है मानो ये जगह जन्नत से कम नहीं लगती यहां पर सूर्यास्त और सूर्योउदय     से लेकर सारे दृशय मन को मोह लेने बाले होते है।  

अगर आप धर्मशाला मक्लॉडगंज की यात्रा पर  है।   इस यात्रा में रोमांच लाना चाहते है  तो आप त्रिउंड ट्रेक पर जा सकते है  त्रिउंड समुन्दर तल से 2828  मीटर की ऊंचाई पर स्थीत है। यह हिमाचल प्रदेश के जिला काँगड़ा का छोटा सा हिल स्टेशन है।जहां   हजारो की संख्या में हर बर्ष पर्यटक आते है। और प्रकृति की शांति,सुंदरता का अनुभव करते है। 

कैसे पहुंचे  
               आप देश की राजधानी दिल्ली से मक्लॉडगंज सड़क के रास्ते  आ  सकते है नजदीकी रेलवे स्टेशन काँगड़ा में है।  बहां से आप मक्लॉडगंज सड़क के माध्यम से टैक्सी या बस बगेरा में  आ सकते है। और नजदीकी हवाई अड्डा गगल में है।  बहां से आप सड़क के माधयम से  आप मक्लॉडगंज पहुंच सकते है 

कब जायें और क्या साथ ले कर जाये 
                                                      जाने से पहले मौसम को एक बार जरूर चेक कर ले त्रिउंड जाने के लीये मार्च से जून और सितम्बर से नवम्बर का समय उपयुक्त है।  खाने को मैगी मिलती है। या दाल चावल मिलते है लकिन फिर भी भरोसा कर के न जाये  तो अपना खाने का समान ले कर जाये ,स्लीपिंग बैग ईंधन टेंट ले कर जाये  

खूबसूरत शांत त्रिउंड ट्रैक 
   मक्लॉडगंज से त्रिउंड कैंपिंग साइट की दुरी 9 किमी आप  इसे धर्मकोट से भी शुरू कर सकते है बहां  से ये 7  किमी दूर है  मक्लॉडगंज से धर्मकोट आप गाड़ी के माध्यम  से भी  जा सकते है। धर्मकोट से  ट्रेक तक़रीबन 7 किमी दूर है और आपको कैंपिंग साइट तक पहुंचने के लिए तकरीबन 3 से 6 घंटे का समय लग सकता  है  
आप धर्मकोट से भागसूनाग - शिवा कैफ़े  होते हुए त्रिउंड पहुंच सकते है 


   त्रिउंड ट्रेक  का यह सफर शुरू होता है मक्लॉडगंज से जो की तिबत्त की निर्बासित सरकार  की राजधानी है।  
यहां से ही त्रिउंड के रोमांचक सफर की शुरुआत होती है। घुमबदार रास्ते और पखडंडियो के सहारे प्रकृति का आनद में एक  अलग सा सकूँ होता है खूबसूरत पगडंडिया  से होकर  गुजरता रास्ता आपके हर  क्षण उत्साह से भर देता  है   इस ट्रक पर आप को प्रकृति के काफी नजारे देखने को मिलेंगे जो की आप के मन को रोमांचित कर दंगे इस ट्रेक पर 1-1 किमी के बाद आपको खाने पिने के समान बैली  दुकाने मिल जाएँगी 
यह रास्ता शुरू में तो आसान है लकिन अंत के  2 किमी आपको खड़ी चढाई चढ़नी पड़ेगी।  लेकिन जब आप ऊपर पहुंच कर नजारा देखोगे तो आपकी थकान को दूर कर  देगा  .धौलाधार  की शांत खूबसूरत बर्फ से ढकी पहाड़िया बहुत ही खूबसूरत लगती है। 


ब्रिटिश काल की ये ऐतहाषिक जगह त्रिउंड चोटी पर घास का एक खुला मैदान है यह चारो और बर्फ से ढके धौलाधार के पहाड़ो से घिरा हुआ है कहीं भी जगह मिलने पर टेंट गाड़ सकते है।  और बहा पर पथरो का चूल्हा बनाये , लकडिया भी ढूंढ़नी पड़ेगी और कुछ बना सकते है। रात में यहां की दुनिया हमारी दुनिया से अलग होती है। टिमटिमाते तारे  खुले आसमान के निचे  और ठंडी हवाएं , सुबह सूरज की पहली किरण में चारो और धौलाधार के उजले पहाड़और त्रिउंड की गहरे रंग की घास आपको जन्नत सा अहसास देगी  


















              

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

guchi mushroom

churdhar trek sirmour, himachal pardesh

attitude status in phadi for whatsapp 2020