पोस्ट

जून, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

रोहतांग अटल टनल

चित्र
दुनिया की सबसे लंबी सुरंग 'अटल टनल' के नाम से  हिमाचल प्रदेश के रोहतांग में स्थित हैं  इस सुरंग की लम्बाई 9.02 किलोमिटर है। यह सुरंग समद्र तल से 10 हजार (यानी 3000 मीटर) 40 फीट की ऊंचाई पर स्थित है  यह दुनिया में सबसे लंबी और सबसे ऊंचाई पर बनी  राजमार्ग सुरंग  है जिसका उद्धघटन प्रधान मंत्री  नरेंद्रमोदी जी ने किया है यह उद्धघाटन शनिवार 3 अक्टूबर 2020 को प्रातः 10 बजे  किया गया। यह सुरग करीब 10.5मीटर चौड़ी और 5.52मीटर उंची हैं।
रोहतांग दर्रे की सुरंग को अटल टनल का नाम क्यों दिया गया? अटल बिहारी वाजपेई जब देश के प्रधानमंत्री थे तब 3जून 2000 को  अटल बिहारी बाजपेई जी ने रोहतांग दर्रे के नीचे रणनीतिक सुरंग का एक ऐतिहासिक निर्णय किया था यह अटल बिहारी जी का सपना था टनल की  आधारशिला 26 मई 2002को रखी गई थी तब केंद्रीय मंत्रालय की बैठक में अटल बिहारी जी को सम्मान के साथ इस टनल का नाम उनके नाम पे रखने का निर्णय लिया गया।और यह सुरंग आधुनिक तकनीक और संरचनाओं के साथ  साथ बनाई गई है जिसे की लेह- लद्दाख के किसानों, युवाओं और यात्रियों के लिए प्रगतिशील रास्ता खोल दिया है।

अटल टनल(सुरंग) राजमार…

mamleshwar mahadev

चित्र
महाभारत  के समय  का मंदिर 
  हिमालयो में हर जगह देवी  देवताओं का  निवास  स्थान है।   हर एक मंदिर की अपनी अचंभित कर देने वाली अपनी कहानियों है।  और उन कहानियों के तथ्यों भी ऐसे मंदिरो मै मिल जाते है जो की आपको और अचंभित करते है ऐसा ही एक मंदिर हिमालयो की खुबसुरत घाटी करसोग मै है।  करसोग घाटी  अपनी सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है इसी सुंदरता के साथ साथ इस घाटी में कई देवी देवताओं के मंदिर है।  उन में से एक  यहां पर भगवान  भोलेनाथ का मंदिर है जो की ममलेश्वर महादेव के नाम से प्रसिद्ध है। यह मंदिर करसोग घाटी के ममेल गॉंव मै स्थीत है।   ममलेश्वर महादेव 

  यह मंदिर बहुत ही पौराणिक मान्यताओं पर आधारित है।  माना जाता है की पांडवो ने वनवास  के समय इस मंदिर में समय  वयतीत किया था। और उनके  त्थयों भी इस मंदिर में मौजूद है।
महाभारत के समय का गेहूँ  का दाना   इस मंदिर में  100या 200 ग्राम गेहूँ का दाना भी है जो की माना  जाता है की पांडवो के समय का है।  और साथ ही एक 6  फ़ीट के जितना बड़ा ढोल उपस्थित है माना  जाता है की ये ढोल भीम का है भीम  इस ढोल को बजाया करते थे यहां से जाते समय वो इस ढोल को यहां छोड़ गए थे। …

Lingad

चित्र
लिंगुड़पहाड़ों में सर्दी  के बाद उगने वाली प्राकृतिक सब्जी लुंगड़ू या लिंगड़ वास्तव में बहुत ही स्वादिष्ट और पौष्टिक होती है. अंग्रेजी में इसे Fiddlehead Fern के नाम से जाना जाता है. इसका वैज्ञानिक नाम Diplazium Espculentum है. यह भी पहाड़ों में मिलने वाली एक सब्जी है। इसका हम उत्पादन नहीं करते है यह दो प्रकार के होते हैं  एक  लिंगुड्डी  और एक लिंगड़   इस सब्जी की पहचान पहाड़ के लोगो को ही होती हैं   लिंगढ़  जलवायु वाले क्षेत्र में समुन्द्र तल से 18000 से लेकर 3000 मीटर की ऊँचाई तक पाया जाता है हिमाचल में बरसात से पहले इसका  का सीजन होता है लिंगड़ में अनगिनत पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं जो हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं.

यह प्रकृतिक सब्जी होती है इसमें किसी भी तरह की रासायनिक दवाइओ की स्प्रे का पयोग नहीं करते है। आमतौर पर ऊपरी हिमाचल और उत्तराखंड में लिंग्डु कहा जाता है। एक बहुत ही हेल्दी और स्वादिष्ट सब्जी है   और  दुनिया की सबसे स्वादिष्ट सब्जी भी  है    लिंगुड़  की  उत्पति लिंगोड को भी कुदरत कि देन माना गया है यह भी एक प्राकृतिक  देन है जिसका प्रयोग हम सब्जी के रूप में करते हैं पर इसका …

guchi mushroom

चित्र
गुच्छीहिमालयो जड़ी बूटियों का खजाना है इस में कई प्रकार की जड़ी बुटिया पायी जाती है। जिनसे  की कई प्रकार की गंभीर बीमारियों को ठीक  किया जाता है।  गुच्छी इन सब में से एक औषधि है जिसे हम सब्जी के रूप में भी खा सकते  है।जिस  की सब्जी बहुत स्वादिष्ट बनती है                  इसे हम गुच्छी के नाम से जानते है।  जो की भूरे रंग की होती है।  ये 5000 फ़ीट   या इस से अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रो  में पायी जाती है। यह बर्फ पिघलने के बाद जंगलो में मिलती है।  यह आसानी से नहीं  मिलती इसे ढूढ़ने के लिए कड़ी मशकत करनी पड़ती है।   जंगलो की अधिक कटाई के कारण ये अब बहुत कम मात्रा में मिलती है 
      यह काफी महंगी बिकती है।  क्यूंकि इसमें कई प्रकार के औषधीय  गुण होते हैं।  जिस वजह से ये इंडिया में ही नहीं   विदेशो  में  भी इसकी काफी मांग है।  इसका वैज्ञानिक नाम   मार्कुला एस्कयुप्लेेंटा हैं इसका  मशरूम है।  और जिन स्थानों में यह पायी जाती है वहां  इसे चेऊ , छतरी , ढिंढोरा और टेटमोर कहा जाता है 
          गुच्छी के औषधियों गुण गुच्छी का उपयोग हम सदियों से दवा के रूप में भी कर रहे है  इसमें बी कॉम्लेक्स विटामिन, विटा…

kafal fruit

चित्र
काफल काफल हिमाचल प्रदेश  में पाया जाने वाला एक फल है।  जो की गर्मियों के महीने में लगता है।  ये हिमाचल में 1300 से 2100  मीटर की ऊंचाई पर लगते है।  ये एक बहुत ही स्वादिष्ट फल होता है।  जो की स्वाद में कुछ खट्टा और कुछ  मीठा होता है। ये फल पहले हरे रंग का होता है।  पकने के बाद इसका रंग लाल हो जाता है।  और ये गुच्छो  में लगता है।  यह गुटली युक्त फल होता है।   काफल के वृक्ष काफी बड़े होते है।    ये कई प्रकार के औषधियों गुणों से भरपूर होता है।  ये हिमाचल, उत्तराखण्ड , नेपाल में मध्यम पहाड़ी इलाको में  पाया जाता है।                           काफल का वैज्ञानिक नाम मेरिका एस्कुलाटा होता है। ये देखने में शहतूत की तरह होता है।  लकिन शहतूत  से काफी अलग होता है।  पहाड़ी  इलाको में इसे देवताओं का फल भी माना जाता है।  इतने औषधि गुण और स्वादिष्ट होने के बावजूद काफल को ज्यादातर लोग नहीं जानते है क्यूंकि पेड़ से तोड़ने के बाद ये फल 1 या 2 दिन के भीतर खराब हो जाता है  काफल वृक्ष के औषधीय  गुण काफल के वृक्ष के तने की छाल का सार , अदरक और दालचीनी का मिश्रिण  अस्थमा,बुखार टाईफाइड , पेचिस तथा फेफड़े ग्रस्त बीमार…

jwalamukhi temple in himachal

चित्र
ज्वालामुखी, हिमाचल प्रदेश हिमाचल को हम देव भूमि के नाम से जानते है।  यहाँ  पर हजारो देवी देवताओं का निवास स्थान है।  लकिन आज जिस मंदिर के बारे में  बताने जा रहा हूँ।  वो कोई आम मंदिर नहीं है।  ये एक ऐसा मंदिर है जहां पर मंदिर में   किसी प्रतिमा की  पूजा नहीं  की जाती है। बल्की माँ की दिव्यो जोय्ति की पूजा की जाती है जो की   बिना घी  और तेल के हजारो बर्षो से  जग रही है। जो कि एक अद्भुत दृश्य है और कलयुग में भी भगवान के होने का प्रमाण  दे रही है कहा जाता है कि इस मंदिर में जो भी भक्त सच्चे मन से मनोकामना मांगते है।  उनकी हर मुराद पूरी होती है। इस मंदिर को हम जवालामुखी मंदिर के नाम से जानते है।  इस मंदिर में एक दिन में 5 बार आरती होती है  
  यह मंदिर काँगड़ा घाटी में स्थीत है।  जो की हिमाचल प्रदेश का जिला है। यह मंदिर सारा साल भक्तो के लिए खुला रहता है। 
हिमाचल में कहीं भी जागरण होता है तो भक्त जन  उस जागरण की ज्योती ज्वाला माता के मंदिर से ले कर जाते है।   पौराणिक मान्यता के अनुसार    महाराज दक्ष की पुत्री सती  थी   जिन्होंने भगवान  शिव से शादी के लिए बहुत सालों प्राथना की अंत में  शिव उन्ह…

kareri lake trek, an unforgettable trek in kangra himachal perdesh

चित्र
kareri lake trek                    "कैसे बयां करू इस  सुंदरता                      को जो इस कुदरत की देन है "
हिमाचल प्रदेश में एक छुपी हुई झील जो की अपनी सुंदरता और शांत वातावरण के लिए जानी जाती है।  इस  जगह पर बहुत कम लोग पहुंचते है।  ये धर्मशाला के पास में है ज्यादातर लोग आपको धर्मशाला , मैक्लोडगंज और त्रिउंड ट्रेक पर मिल जायेंगे लेकिन यहां काफी कम लोग पहुंचते  है।   जिस से इस झील के पास काफी शांति होती है। और प्राकृतिक खूसूरती  बहुत जयादा   है। 


करेरी  झील ट्रेक उन लोगों के लिए एकदम सही ट्रैकिंग गंतव्य है, जो प्रकृति के सुंदर और प्राचीन दृश्यों के साथ ट्रेकिंग के रोमांच का आनंद लेना चाहते हैं। करेरी झील ट्रेक एक आसान ट्रेकिंग गंतव्य है; यही कारण है कि यह गंतव्य उन लोगों में लोकप्रिय है जो पहली बार ट्रेकिंग का अनुभव ले रहे हैं। पहली बार  ट्रैकरो  के अलावा, यह गंतव्य अनुभवी और विशेषज्ञ ट्रेकर्स के लिए एक पसंदीदा गंतव्य भी  है, जो चुनौतीपूर्ण और कठिन ट्रेक से ब्रेक लेना चाहते हैं और कुछ आसान और सुखदायक प्राप्त करना चाहते हो। 


करेरी झील ट्रेक उन कुछ ट्रेकों में से एक है जो अभी …

a joureny of self made super star sushant singh rajpoot

चित्र
" हम हार जीत सक्सेस फेलियर में इतना उलझ गए है। ........ की ज़िंदगी जीना भूल गए है। ... ज़िन्दगी में  अगर कुछ सबसे ज्यादा जरूरी  है तो वो है खुद  ज़िन्दगी   "

2020 एक विनाशकारी वर्ष रहा है और ऐसा लगता है कि यह आने वाले समय में भी जारी रहेगा। इरफान खान और ऋषि कपूर के बाद, बॉलीवुड ने युवा अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के रूप में एक और रत्न खो दिया है। खबर ने सभी को स्तब्ध कर दिया है और यह अभी भी सामने नहीं आया है कि ऐसा करने का क्या कारण  था।

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मुंबई के बांद्रा में अपने घर में मृत पाए गए, उनके प्रतिनिधि और मुंबई पुलिस ने रविवार को कहा। अभिनेता को बांद्रा (पश्चिम) में अपने छठे मंजिल के एपार्टमेंट में मृत पाया गया।  सुशांत सिंह राजपूत, जिन्हें बॉलीवुड और टीवी इंडस्ट्री दोनों में कुछ यादगार भूमिकाओं में अपने शानदार अभिनय कौशल के लिए याद किया जाता है, आज पहले के स्वर्गीय निवास के लिए रवाना हो गए हैं। अभिनेता ने अपने बांद्रा स्थित घर में आत्महत्या कर ली। क्या आप जानते हैं कि अभिनेता वास्तव में एक इंजीनियरिंग प्रतिभा था?
निर्विवादित के लिए, सुशांत सिंह राजपूत, जिन्हें …

jalori pass trek & serolsar lake trek , kullu , himachal

चित्र
वो पूछ रहे थे की ...... "क्या मिलता है इन पहाड़ों में".                              " सुकून " .... केह कर मैंने पुरी कहानी ही बयां कर दी।

जलोड़ी पास             जलोड़ी पास एक अत्यधिक सूंदर स्थान है।  जो की आपको हिमाचल की प्रकृति और सुंदरता के पैमाने पर एक दम  सही उतारता है।  जालोडी पास हिमाचल के जिला कुल्लू  में है जो की शिमला और कुल्लू जिला को भी आपस में जोड़ता है।  यह जगह समुन्दर तल से 3120 मीटर की ऊंचाई पर  स्थीत  है।  इस स्थान पर सर्दियों में  20  फ़ीट तक बर्फ बारी हो जाती है।   

यह स्थान शिमला  से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।  यह  हिमालय के  शांत वातावरण से रूबरू करवाता है    और प्रकृति की उत्तम दृश्य को दिखाता है   यह स्थान काफी ऊंचाई पर स्थीत  है यहां का वातावरण आपको शांति प्रदान करता है शांत और सुन्दर पहाड़ियों  के बीच कई प्रकार की जड़ी बुटिया है कई प्रकार  के  जीवों के साथ इस क्षेत्र में मौसमी फूल खिलते हैं  जो की देखने में बहुत ही मनमोहक लगते है  जो हर ट्रेकर को यहां का दीवाना बना देते हैं। इस ट्रेक पर  खूबसूरत पगडंडी पर ट्रेकि…

attitude status in phadi for whatsapp 2020

चित्र
attitude status in phadi for whatsapp 2020
in phadi इतना ता  कोइ  मरीजा  ते भी  ,परहेज नी करदा  जितना आजकल से मेरे ते करना लगी पईओ in hindi 
 इतना तो कोई मरीज से भी परहेज नी करता  जितना आजकल बो मेरे से करती है 



in phadi
दरुआ  तै डर नी लागदा डर ता उणा दोस्ता  तै लगदा   जेडे पिने ते बाद घुसिया मारदे  “आई लव यू फलाणी, आई लव यू टमकानी ”
in hindi
शराब पिने से डर नी लगता  डर तो उन दोस्तों से लगता है  जो शराब पिने के बाद झूठ बोलते है  i love u soniya   , i love u moniya 
attitude status in phadi for whatsapp 2020
in phadi 
सोना बाबू  के चक्कर में 
तू  ने Diamond यार खो दिया!!
in hindi
दो दिन के प्यार के चक्कर में तूने सच्चा दोस्त गवा  दिया  
in phadi
अपणी त BAE samsung आली लीड है
बन्दिया  ते भी  जायदा #ख्याल रखदा 
in hindi 
मेरी तो BAE samsu