रोहतांग अटल टनल

चित्र
दुनिया की सबसे लंबी सुरंग 'अटल टनल' के नाम से  हिमाचल प्रदेश के रोहतांग में स्थित हैं  इस सुरंग की लम्बाई 9.02 किलोमिटर है। यह सुरंग समद्र तल से 10 हजार (यानी 3000 मीटर) 40 फीट की ऊंचाई पर स्थित है  यह दुनिया में सबसे लंबी और सबसे ऊंचाई पर बनी  राजमार्ग सुरंग  है जिसका उद्धघटन प्रधान मंत्री  नरेंद्रमोदी जी ने किया है यह उद्धघाटन शनिवार 3 अक्टूबर 2020 को प्रातः 10 बजे  किया गया। यह सुरग करीब 10.5मीटर चौड़ी और 5.52मीटर उंची हैं।
रोहतांग दर्रे की सुरंग को अटल टनल का नाम क्यों दिया गया? अटल बिहारी वाजपेई जब देश के प्रधानमंत्री थे तब 3जून 2000 को  अटल बिहारी बाजपेई जी ने रोहतांग दर्रे के नीचे रणनीतिक सुरंग का एक ऐतिहासिक निर्णय किया था यह अटल बिहारी जी का सपना था टनल की  आधारशिला 26 मई 2002को रखी गई थी तब केंद्रीय मंत्रालय की बैठक में अटल बिहारी जी को सम्मान के साथ इस टनल का नाम उनके नाम पे रखने का निर्णय लिया गया।और यह सुरंग आधुनिक तकनीक और संरचनाओं के साथ  साथ बनाई गई है जिसे की लेह- लद्दाख के किसानों, युवाओं और यात्रियों के लिए प्रगतिशील रास्ता खोल दिया है।

अटल टनल(सुरंग) राजमार…

churdhar trek sirmour, himachal pardesh


हिमाचल के जिला सिरमौर में स्थीत  चूड़धार ट्रेक एक आध्यात्मिक ट्रेक है। चूड़धार सिरमौर की ओर बाहारी हिमालय की सबसे ऊँची चोटी है जो की समुन्द्र तल से 3647 मी  की ऊंचाई पर स्थीत  है।    शिखर के ऊपर  भगवान शिरगुल देवता का एक देवदार-छत वाला मंदिर है जो भगवान शिव  को समर्पित एक आवास है। सिरमौर, चौपाल और सोलन क्षेत्र के स्थानीय लोगों के लिए इस मंदिर का गहरा महत्व है। चूड़धार को चूर चाँदनी के नाम से भी जाना जाता है। इस जगह पर सर्दियों में भारी बर्फ़बारी होती है। 

 चूड़धार चोटी के शीर्ष पर, भगवान शिव की एक विशाल प्रतिमा मंत्रमुग्ध करती हुई दिखाई देती है और साथ ही साथ आपको महाभारत और रामायण जैसे महान भारतीय महाकाव्यों के किस्से भी बताती है।

 
 इतिहास पौराणिक मान्यताओं के अनुसार चूरू नामक एक वयक्ति अपने पुत्र के साथ शिरगुल महाराज के दर्शन के लिए आया था। उसी समय एक बड़ा सा सांप पता नहीं कहाँ से आ  गया देखते ही देखते वह  सांप चूरू और उसके बेटे को काटने के लिए आगे आने लगा तभी दोनों ने भगवान  शिव से अपने प्राणों की रक्षा करने की प्रार्थना की कुछ ही क्षण में एक विशाल काये पत्थर उस पर जा गिरा 

कहते है चूरू और उसके बेटे की जान बचाने  के बाद वह  भगवान  शिव के अनन्यो भक्त हुए। इस  घटना के बाद लोगो में मंदिर के प्रति आस्था और बढ़ गयी और साथ ही उस जगह का नाम भी चूड़धार के नाम से प्रसिद्ध हो गया।  इसके अलावा चटान का नाम भी चूरू रख दिया इसी  के पास एक और  चटान  है मान्यता है की इसी स्थान पर भगवान भोलेनाथ अपने परिवार के साथ रहते थे 


 मंदिर के पास ही दो बाबड़िया है।  मंदिर जाने बाले  भक्त पहले बाबड़ी में सनान करते है फिर मंदिर में प्रवेश करते है मान्यता है की मंदिर के बाहर बनी दोनों बाबड़ियों का जल अंतयंत पवित्र है।  कहा जाता है की इनमे से किसी भी बाबड़ी से दो लोटा जल ले कर सिर पर डालने से सभी मनत्ते पूरी होती है चूड़धार की इस बाबड़ी में भक्त ही नहीं देवी देवता भी आस्था की डुबकी लगाते है। इस घाटी में जब भी किसी  मंदिर की सथापना होती है तो पहले देवी देवताओं की प्रतिमाओं को यहां सनान करवाया जाता है। इस बाबड़ी में किये गए सनान को गंगाजल जितना पवित्र मानते है। 



देवताओं का इतिहास

पुराणों के अनुसार शिरगुल देवता मंदिर, भगवान शिव को समर्पित है। भगवान शिरगुल का सबसे प्रसिद्ध मंदिर जो 5000 साल से अधिक पुराना है, इस पहाड़ी पर आने वाले पर्यटकों के लिए मुख्य आकर्षण है। बिज्जत महाराज क्षेत्र के प्रसिद्ध देवता भी हैं। दोनों देवताओं का दो पंचायत चढना और देवमनाल के लोगों के बीच काफी प्रभाव है। स्थानीय लोगों ने बताया कि 1, 500 साल पहले, देवमानल पंचायत के देव कारिंदे ने चढना गांव में एक जाग्रत का आयोजन किया था, जहां वे शिरगुल देवता की पालकी के साथ गए थे। हालाँकि, दोनों देवताओं के बीच एक बहस के बाद, चड्ढा के लोगों ने देवमनाल गाँव के एक करिन्दा को मार डाला और उसे शिरगुल देवता की पालकी में भेज दिया। उसके बाद, न तो दोनों देवता एक त्योहार में मिले और न ही दोनों पंचायतों के लोगों के एक-दूसरे के साथ संबंध थे। उल्लेखनीय रूप से, क्षेत्र के 28, 000 लोग इन दोनों देवताओं की पूजा करते हैं।


चूड़धार शिमला के पास सबसे आकर्षक ट्रेक में से एक है। धौलाधार, ग्रेटर हिमालय और उत्तराखंड की कुछ विशाल चोटियों जैसे स्वर्गारोहिणी (6,252 मी), बंदरपून (6,316 मी), केदारनाथ (6,940 मी) और बद्रीनाथ (7,138 मी) की खूबसूरत चोटियों को आप यहां से तेज धूप के बीच देख सकते हैं। 



कैसे पहुंचे 
   चूड़धार पहुंचने के लिए आपको एक ट्रेक करना पड़ेगा  ये ट्रेक आप  तीन जगह से शुरू कर सकते है। 

 चौपाल, शिमला जिले में स्थित 7 कि0मी की ट्रेक दूरी के साथ सबसे छोटा मार्ग है। सिरमौर जिले के हरिपुरधार में 50 कि0मी की लंबी दूरी की ट्रेकिंग शामिल है। नोहराधार सबसे बेहतर मार्ग है और यह 18  किमी की एक चढाई है


हमने  इस ट्रेक को नोहराधार से शुरू किया , जो चंडीगढ़ से लगभग 133 कि0मी और दिल्ली से लगभग 350 कि0मी दूर  पर स्थित है।  इसे पूरा करने में लगभग 7-9 घंटे लगे। नोहराधार चूड़धार ट्रेक के लिए सबसे लोकप्रिय आधार है। 

हिमाचल में लोकप्रिय पर्वतीय स्थलों के हलचल से दूर, नोहराधार सोलन से 70 KM दूर सिरमौर जिले में 7000 फीट पर स्थित एक विचित्र सुंदरता वाला  शहर है। यह स्थान चूड़धार के लिए ट्रेक के लिए शुरुआती बिंदु है, लगभग 12000 फीट पर हिमालय के बाहर सबसे ऊंची चोटी है। नोहराधार या नोहरा, जैसा कि स्थानीय लोग कहते हैं, कुछ 15-20 दुकानों और दो होटल (चुरेश्वर रिसॉर्ट और आनंद रीजेंसी) के साथ एक सड़क शहर है।

चूड़धार तक की यात्रा चुरेश्वर रिसॉर्ट के पास से शुरू होती है। यहां से शिखर लगभग 18 किलोमीटर दूर है। शुरुआती चढ़ाई खड़ी है। 


चूड़धार उर्फ ​​चुरी-चांदनी धार (बर्फ़ रिज के चूड़े) बाहर की हिमालयी सीमा की सबसे ऊँची चोटी है। शिखर 56 वर्ग  कि0मी के  वन अभयारण्य  और घर के आसपास वनस्पतियों और जीवों की एक विशाल प्रजाति से घिरा हुआ है। ट्रेक एक घने देवदार के  जंगल, सीढ़ीदार खेतों और गुज्जर चरगाह भूमि से गुजरता है।  


 लगभग 8000 फीट की दूरी पर जंगल शुरू होता है पूरा अभयारण्य वनस्पतियों और जीवों की कई प्रजातियों से समृद्ध है। पेड़ों के अधिकांश भाग जो चूड़धार चोटी पर ट्रैकिंग करते हुए देखे जा सकते हैं, उनमें देवदार, ओक  शामिल हैं। पेड़ों के अलावा, कई औषधीय जड़ी बूटियों जैसे कि एलो वेरा, अमरान्थस स्पिनोसस और वाइल्ड हिमालयन चेरी भी पा सकते हैं। पेड़ों से ट्रेक खूबसूरत हो जाता है। पहला पड़ाव जमनाला (लगभग 9000 फीट) है, जो पानी के स्रोत और दो छोटी दुकानों के साथ एक अद्भुत कैंपिंग स्पॉट है, जहां एक व्यक्ति को दोपहर का भोजन मिल सकता है।



 यहाँ से टेसीरी (10130 फीट) तक पहुँचने में लगभग एक घंटे का समय लगता है, जिसमें दो छोटी दुकानें भी हैं, जिसमें टेसी से लेकर घास के मैदानों के साथ जंगल से लेकर बंजर पहाड़ी तक का परिदृश्य बदल जाता है। हिमालय से आने वाली ठंडी हवाओं को रोकने के लिए पहाड़ियों के न होने के कारण तीज बेहद घुमावदार और ठंडी होती है। यहाँ से इसके डेढ़ घंटे के शिखर पर चढ़ते हैं 


यह ट्रेक वाइल्ड लाइफ के प्रशंसकों के लिए एक आनंद है, पक्षियों की कई प्रजातियां हैं जो ट्रेक के दौरान देखी जा सकती हैं। इन पक्षियों में से कुछ में हिमालयन मोनाल, भारतीय मोर, बहु-रंगीन हंसी थ्रश और कोक्लास तीतर शामिल हैं।

पक्षियों ने  इन पहाड़ों को अपना घर बना लिया है। आमतौर पर इस घाटी  के आसपास दिखने वाले जानवरों में  हिरण,  तेंदुआ, जंगली सूअर, एशियाई काले भालू शामिल हैं।

जैसे ही आप जंगलों को पीछे छोड़ते हैं, ट्रेक का अंतिम एक घंटा लुभाता है। एक बार शिखर पर पहुंचने के बाद,हिमालय का जादू अपने आप सामने आ  जाता है । भगवान शिव की मूर्ति के चारों ओर के राजसी पहाड़ों का दृश्य बहुत ही शानदार है ।
हमने चूड़धार चोटी के ऊपर से हनुमान टिब्बा, स्वर्गारोहिणी, देव टिब्बा और जाखू की कई चोटियों को देखा। हमने भगवान शिव को श्रद्धांजलि अर्पित की और घने जंगलों से ढकी निचली हिमालयी श्रेणियों के ईगल का दृश्य देखे जो की आपको आश्चर्य चकित कर देंगे 



Search ResultFeatured snippe


साथ क्या क्या ले कर जाये 
कपड़े, पानी की बोतलें, एनर्जी ड्रिंक, स्नैक्स, हेडलैम्प, मेडिकल किट, स्लीपिंग टेंट, कंपास, मोजे, दस्ताने, थर्मल, रेनकोट, कैमरा ,पावर बैंक  और कपड़ों का एक अतिरिक्त सेट, ये सब आपको इस ट्रेक पर ले जाने की जरूरत है।  निकलने से पहले एक बार मौसम का हालरूप से चिह्नित किया गया है। एक गाइड को संलग्न करने की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि यहां कई लोग ट्रेकिंग करते हुए आपको मिल जायेंगे 


जाने का सबसे अच्छा समय 
इस ट्रेक पर मई से नवंबर तक (मॉनसून के अलावा) सबसे अच्छा समय है जाने से पहले एक बार मौसम का हाल जरूर चेक कर ले कुछ लोग बर्फ़बारी के दौरान ट्रेक करना पसन्द करते है तो नवंबर से फरबरी के बिच यहां पर भारी बर्फ़बारी होती है। 


टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

guchi mushroom

attitude status in phadi for whatsapp 2020