lahol and Spiti valley

इमेज
 स्पीति घाटी  हिमाचल प्रदेश के राज्य में स्थित है यह   समन्दर तल से 12500 मीटर की ऊंचाई  पर है  स्पीति घाटी उच्च पर्वत और श्रृंखलाओं से गिरी हुई है स्पीति घाटी का अर्थ मध्य भूमि है अर्थात् भारत और तिब्बत के बीच की भूमि।  यहां का नजारा देखने पर्यटक दूर-दूर से आते हैं स्पीति घाटी  की खूबसूरत पहाड़ियां स्थिति को और ज्यादा खूबसूरत बनाती है लाहौल और स्पीति घाटी दोनों ही एक दूसरे से विभिन्न है। लाहौल घाटी की यात्रा के लिए परमिट प्राप्त करना बेहद मुश्किल है यहां की एक विशेष बात यह भी है कि  लाहौल ओर स्पीति की अपनी कोई मुख्य भाषा नहीं है यहां विभिन्न बोलियां बोली जाती हैं।यहां बौद्ध धर्म के लोग ज्यादा निवास करते है हिमाचल प्रदेश में किन्नौर ओर लौहोल स्पीति में ही ज्यादा बौद्ध धर्म के लोग निवास करते है। लाहौल शब्द को तिब्बती भाषा में (गार्जा) मतलब अज्ञात देश एवं मौन कहा जाता हैं  लाहौल घाटी में वास्तव में मिश्रित प्रजाति के लोग रहते हैं तिब्बती भाषा में लाहौल को लहोयुल   भी कहा जाता है तिब्बती शब्द लहोयुल  का अर्थ दक्षिणी देश से है  इसका अर्थ  है देवताओं का देश।   मठ का अर्थ मठ का अभिप्राय एक ऐ

guchi mushroom

    गुच्छी

हिमालयो जड़ी बूटियों का खजाना है इस में कई प्रकार की जड़ी बुटिया पायी जाती है। जिनसे  की कई प्रकार की गंभीर बीमारियों को ठीक  किया जाता है।  गुच्छी इन सब में से एक औषधि है जिसे हम सब्जी के रूप में भी खा सकते  है।जिस  की सब्जी बहुत स्वादिष्ट बनती है 

                इसे हम गुच्छी के नाम से जानते है।  जो की भूरे रंग की होती है।  ये 5000 फ़ीट   या इस से अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रो  में पायी जाती है। यह बर्फ पिघलने के बाद जंगलो में मिलती है।  यह आसानी से नहीं  मिलती इसे ढूढ़ने के लिए कड़ी मशकत करनी पड़ती है।   जंगलो की अधिक कटाई के कारण ये अब बहुत कम मात्रा में मिलती है 

      यह काफी महंगी बिकती है।  क्यूंकि इसमें कई प्रकार के औषधीय  गुण होते हैं।  जिस वजह से ये इंडिया में ही नहीं   विदेशो  में  भी इसकी काफी मांग है।  इसका वैज्ञानिक नाम   मार्कुला एस्कयुप्लेेंटा हैं इसका  मशरूम है।  और जिन स्थानों में यह पायी जाती है वहां  इसे चेऊ , छतरी , ढिंढोरा और टेटमोर कहा जाता है 

          गुच्छी के औषधियों गुण 

 

  1. गुच्छी का उपयोग हम सदियों से दवा के रूप में भी कर रहे है
  2.   इसमें बी कॉम्लेक्स विटामिन, विटामिन डी ओर एसिड होता है
  3.  यह  दिल के दौरे जैसे बीमारियों को रोकने में सक्षम है।
  4.  गुच्छी में    फाइबर की मात्रा 17.6%, प्रोटीन 32.7% ,2% फैट तथा 38% कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है
  5.  गुच्छी का नियमित इस्तेमाल करने से  हृदय रोग नहीं होता है 

गुच्छी के फायदे 

                    गुच्छी का उपयोग हम सब्जी बनाने, सूप बनाने, तथा आचार बनाने के लिए करते हैं। जो आपको स्वस्थ रहने में मदद करता है  गुच्छी  मोटापा सर्दी,जुखाम से लड़ने की क्षमता को बढाता है  प्रोस्टेट स्तन कैंसर की आशंका को कम करता है  तथा सूजन दूर करने में भी लाब्दायक होता है।  
             
     


  गुच्छी का उत्पादन

       गुच्छी मार्च माह से पहले हिमाचल के क्यी गांव के जंगलों में पाई जाती हैं अच्मभा यह है कि इससे हम बीज बो कर इसका उत्पादन नहीं कर सकते यह कुदरत की एक प्राकृतिक देन है  यह मौसम खराब होने के बाद बिजली चमकने से जो बिजली ज़मीन से टकराती है उसके बाद इस सब्जी का उत्पादन होता है

   गुच्छी किन  क्षेत्रों में पाई जाती हैं


         भारत और नेपाल की स्थानीय भाषा में इसे (गुच्छी,छतरी,ट्टमोर, दुंगरो तथा चेऊ कहा जाता है।गुच्छी च्ंबा,कश्मीर, कुल्लू,शिमला, मनाली, ठियोग, कुमर्सैन, कोटगड़,कुल्लू, किन्नौर, सहित हिमाचल प्रदेश के कई जिलों के जंगलों में पाई जाती हैं

      गुच्छी की सब्जी कैसे  बनाते हैं


    समाग्री - प्याज, लहसुन, टमाटर,जीरा, धनियां,हरी मिर्च,हिंग,अदरक, मेथी, कली मिर्च,नमक,हल्दी, ये सब स्वाद अनुसार
     गुच्छी  यदि ताज़ा हो तो  आप उससे  सामान्य सब्जी  की तरह बना सकते है आप इसमें प्यास लहसुन और टमाटर के बाद गुच्छी  डाल   सकते हैं किंतु इसमें आप पानी ना डाले यदि आप इसे पानी के बिना ही बनाते है तो यह बहुत स्वादिष्ट बनती है  यदि आप सुखी सब्ज़ी बनाना चाहते है तो आपको सुखी गुच्छी को  अच्छे से  पानी में उबाल लें  और उसके बराबर टुकड़े कर दें ओर फिर उसे  सामान्य तरीके से बना ले।

 गुच्छी की लागत

  गुच्छी सबसे महंगी बिकने वाली सब्ज़ी है इसके कीमत सुनकर अच्छे अच्छे के होश उड़ जाते है इसकी कीमत 20से 30हजार प्रति किलो है। 

गुच्छी का आप अचार भी भी बना सकते है। 

 
                                    

" आप घर आइए,पड़ा है बहुत काम

  तस्ली से खाऊंगी गुच्छी, भाड़ में

      जाएं दाम  "



टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

churdhar trek sirmour, himachal pardesh

attitude status in phadi for whatsapp 2020