Key monestry

इमेज
दोस्तो जैसा की आप सब जानते हो कि में कीह मठ के बारे में आप सब को बताने जा रही हूं तो दोस्तो अगर आप कीह मठ के बारे में बारीकी से जानकारी  चाहते हो तो आप मेरे ब्लॉग को पूरा पड़े जिसमें मैने कीह मठ के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने की कोशश की है  जैसा कि आप इस अद्भुत मठ के अंदर कदम रखते हैं, आप इसकी खूबसूरत दीवारों को देखेंगे जो चीनी संस्कृति से प्रभावित 14 वीं शताब्दी की मठ वास्तुकला से युक्त भित्ति चित्रों और चित्रों से आच्छादित हैं। यह अपनी दुर्लभ पांडुलिपियों, अद्वितीय पवन उपकरणों, बुद्ध की मूर्तियों और हमलावरों को बचाने और मठ की रक्षा करने के लिए हथियारों का एक अद्भुत संग्रह के लिए भी लोकप्रिय है।  कीह मठ लाहौल जिले में एक बेहद प्रसिद्ध मठ है  यह मठ  एक खूबसूरत पहाड़ी पर स्थित है समन्दर तल से कीह मठ की ऊंचाई 4,166 मीटर यानी (13504 फीट) है ओर इस मठ को एक हज़ार साल पुराना बताया जाता हैं स्पीति घाटी का यह सबसे पुराना, जटिल ओर  बड़ा मठ हैं  इस मठ की स्थापना 13वीं  शताब्दी में हुई थी।  कीह का अर्थ होता है ( चाबी ) ओर ( मठ ) आश्रम ।          मठ का  इतिहास  कीह  मठ की स्थापना 11 वीं शता

mamleshwar mahadev


महाभारत  के समय  का मंदिर 


  हिमालयो में हर जगह देवी  देवताओं का  निवास  स्थान है।   हर एक मंदिर की अपनी अचंभित कर देने वाली अपनी कहानियों है।  और उन कहानियों के तथ्यों भी ऐसे मंदिरो मै मिल जाते है जो की आपको और अचंभित करते है ऐसा ही एक मंदिर हिमालयो की खुबसुरत घाटी करसोग मै है।  करसोग घाटी  अपनी सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है इसी सुंदरता के साथ साथ इस घाटी में कई देवी देवताओं के मंदिर है।  उन में से एक  यहां पर भगवान  भोलेनाथ का मंदिर है जो की ममलेश्वर महादेव के नाम से प्रसिद्ध है। यह मंदिर करसोग घाटी के ममेल गॉंव मै स्थीत है।  

ममलेश्वर महादेव 



  यह मंदिर बहुत ही पौराणिक मान्यताओं पर आधारित है।  माना जाता है की पांडवो ने वनवास  के समय इस मंदिर में समय  वयतीत किया था। और उनके  त्थयों भी इस मंदिर में मौजूद है।

महाभारत के समय का गेहूँ  का दाना 

  इस मंदिर में  100या 200 ग्राम गेहूँ का दाना भी है जो की माना  जाता है की पांडवो के समय का है।  और साथ ही एक 6  फ़ीट के जितना बड़ा ढोल उपस्थित है माना  जाता है की ये ढोल भीम का है भीम  इस ढोल को बजाया करते थे यहां से जाते समय वो इस ढोल को यहां छोड़ गए थे। और साथ इस मंदिर में  भगवान भोलेनाथ की पांच शिवलिंग भी है  जो की पांडवो ने यहां सथापित किए थे। 

ममलेश्वर महादेव 


ममलेश्वर महादेव 

पांच हजार साल पुराना धुणा 


इस मंदिर में  धूणा   है जो की   5000 सालो से  लगातार चल रहा है माना जाता है की यह धुणा  भी पांडवों के समय से लगातार  चला आ रहा है।  इस धुणे को लेकर इस गॉंव मैं  एक प्रचलित कहानी भी है।  

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस गॉंव में पहले एक राक्षश रहा करता था।  जो की गॉंव वालो को  खाता था इस वजह से इस गॉंव के लोग काफी डरे हुए रहते थे। उन्हें हर रोज गॉंव  का एक व्यक्ती उस राक्षस    के पास भेजना पड़ता था जब    पांडव इस गांव मैं पहुंचे तो  उन्हें इस बारे मै पता चला   तो भीम ने निर्णेय लिया की आज वो जायेगा  भीम ने अकेले ही  उस राक्षस  को मार दिया तब से यह धुणा लगातार जल रहा है 




  इन सभी तथ्यों की वजह से यह मंदिर काफी प्रसिद्ध है इस मंदिर मैं  हर रोज देशी  विदेशी पर्यटकों का जमाबड़ा लगा रहता है।  जो की यहां की  प्राकृतिक सुंदरता को और मंदिर के तथ्यों को देख कर हैरान रह जाते है। 

Add caption

ममलेश्वर महादेव 

कैसे पहुंचे 

 भारत के राज्यों हिमाचल,  हिमाचल  की राजधानी शिमला से करसोग 100 किमी की दुरी पर स्थीत है।  यह मंदिर सड़क के माध्यम से आसानी से जुड़ा हुआ है।  करसोग से ममलेश्वर महादेव मंदिर मात्र 1500 मीटर दूर है।  
      
     हवाई अड्डा
     सबसे नजदीकी हवाई अड्डा आपको शिमला में मिलेगा।  शिमला हवाई अड्डा से आप कैब या बस के माध्यम से करसोग पहुंच सकते है।  जो की 115 कि0 मी  दूर है 

नजदीकी रेलवे स्टेशन सबसे नजदीकी रैलवे स्टेशन भी आपको शिमला मे ही मिलेगा रेलवे स्टेशन से आपको कैब या बस के माध्यम से ममलेश्वर महादेव पहुंचना पड़ेगा 

ममलेश्वर महादेव 

आसपास के घूमने के स्थान 

करसोग घाटी अपनी प्रकृतिक सुंदरता के लिए जानी  जाती है। इस घाटी मे बहुत ज्यादा मंदिर है  उनमे से कुछ 
 
शिकारी माता मंदिर , महू नाग मंदिर , पांगणा महल ,

  शिकारी माता ट्रेक का वेर्नन इस लिंक पर मिल जायेगा 

ममलेश्वर महादेव 

कहा रूके        

     करसोग घाटी  में  आपको आपकी सुविधा अनुसार होटल मिल जायँगे जो  की सब रेंजेस  में उपलब्ध है 





टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

guchi mushroom

churdhar trek sirmour, himachal pardesh

bijli mahadev trek kullu, himachal