Key monestry

इमेज
दोस्तो जैसा की आप सब जानते हो कि में कीह मठ के बारे में आप सब को बताने जा रही हूं तो दोस्तो अगर आप कीह मठ के बारे में बारीकी से जानकारी  चाहते हो तो आप मेरे ब्लॉग को पूरा पड़े जिसमें मैने कीह मठ के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने की कोशश की है  जैसा कि आप इस अद्भुत मठ के अंदर कदम रखते हैं, आप इसकी खूबसूरत दीवारों को देखेंगे जो चीनी संस्कृति से प्रभावित 14 वीं शताब्दी की मठ वास्तुकला से युक्त भित्ति चित्रों और चित्रों से आच्छादित हैं। यह अपनी दुर्लभ पांडुलिपियों, अद्वितीय पवन उपकरणों, बुद्ध की मूर्तियों और हमलावरों को बचाने और मठ की रक्षा करने के लिए हथियारों का एक अद्भुत संग्रह के लिए भी लोकप्रिय है।  कीह मठ लाहौल जिले में एक बेहद प्रसिद्ध मठ है  यह मठ  एक खूबसूरत पहाड़ी पर स्थित है समन्दर तल से कीह मठ की ऊंचाई 4,166 मीटर यानी (13504 फीट) है ओर इस मठ को एक हज़ार साल पुराना बताया जाता हैं स्पीति घाटी का यह सबसे पुराना, जटिल ओर  बड़ा मठ हैं  इस मठ की स्थापना 13वीं  शताब्दी में हुई थी।  कीह का अर्थ होता है ( चाबी ) ओर ( मठ ) आश्रम ।          मठ का  इतिहास  कीह  मठ की स्थापना 11 वीं शता

Shali ka tibba


    एक ऐसा मंदिर जो की बहुत ही खुबसूरत होने के बावजूद भी दुनिया की नजरो से बहुत दूर है और उसकी प्राकृतिक सुंदरता और एकांत जो की आपके मन को मोह लेगी साथ ही साथ   आपको अलग ही शांति का असीम सुख प्राप्त करवाएगी शाली के टीबा  मां भीमकाली को समर्पित को समर्पित एक दिव्य मंदिर है इस दिव्यता को देखने यहां पर्यटक दूर- दूर से आते हैं।

                                जिसे लोग जन्नत कहते है 

                               वहीं जन्नत पहाड़ों पर आकर नसीब 

                                 हो जाया करती हैं

 


  शाली का टिबा  

   हिमाचल  प्रदेश के जिला शिमला के ठियोग में  स्थित  है। शाली का टीबा हिमालय   की गोद में  एक पहाड़ी पे बसा है  इस मंदिर का  नज़रा  बहुत खूबसूरत हैं। यह शिमला से 65 की0 मी0 की दूरी पर है यह हिमालय रेंज का एक विहगमदृष्य  प्रदान करता है  शाली का टीबा का ट्रैक( 2872m ) का है यह मंदिर माता भीमकाली को समर्पित है। माता शाली का एक और स्थान भी है जो उनके मुख्य स्थान से 2 की0 मी0 नीचे है 
 


  शाली के टीबे का वीहगम दृश्य

शाली का टिब्बा एक ऐसी चोटी है जिसको भुला पाना मुश्किल है  शाली के टीबे के चारो  तरफ देखने पर एक तरफ शिमला ओर दूसरी तरह मशोबरा  ओर तीसरी तरफ कुमरासैन जहां पहाड़ी पर बर्फ भी दिखाई देती है। चौथी तरफ  देखने पर ठियोग दिखाई देता है।  अपनी विशिष्टता के बावजूद, हालांकि, शिखर उतना ध्यान आकर्षित नहीं करता है जितना कि वह योग्य है। शाली टिब्बा, 9,423 फीट की ऊंचाई पर, शिमला, मशोबरा, कुफरी, फागू और नारकंडा से घिरा हुआ है। यह  चोटी हिमाचल प्रदेश के एक मनोरम 360 डिग्री दृश्य के लिए एक शानदार सुविधाजनक स्थान प्रदान करती है।

   

   यात्रा का वर्णन

बेस कैंप, खटनोल गांव की ओर जाने वाली सड़क, नीली पाइन और देवदार के जंगल की शांति और खूबसूरत घाटी से होकर गुजरता है। यह ट्रैक एक दिन में ही पूरा किया जा सकता है यहां का मौसम बहुत सुहाना ओर ठंडा रहता है। 


इतिहास और लोककथाएँ:

शाली टॉप देवी भीमा काली को समर्पित एक मंदिर है, जो स्थानीय लोगों द्वारा अत्यधिक पूजनीय है। भक्त विशेष रूप से नवरात्रि के दौरान नियमित रूप से यहां इस शीर्ष पर आते हैं। मंदिर का निर्माण लकड़ी और पत्थरों से किया गया है, जो कि ग्रामीण हिमालयी वास्तुकला का विशिष्ट है। मंदिर के लिए एक निशान का निर्माण 1936 में फरीदकोट के राजा द्वारा किया गया था। वही निशान आज मौजूद है और अच्छी हालत में है

 देवी शाली माता की  मान्यता 

 देवी भीमाकाली को समर्पित, यह मंदिर आस-पास के गांवों के बीच बहुत ही पवित्र स्थान रखता है। मुख्य मंदिर से 2की0मी0 नीचे एक ओर माता शाली का स्थान है कहा जाता है उस स्थान के दर्शन करना भी अति आवश्यक है यदि कोई भक्त  उस स्थान के दर्शन  करता है ओर शाली के टीबे की ओर अग्रसर होता है तो उसकी मानोकामना  शीघ्र ही पूरी हो जाती है।

 

शाली टिब्बा तक कैसे पहुंचे?

आप शाली टिब्बा की यात्रा को दो भागों में विभाजित कर सकते हैं।

शिमला से खतनोल (सड़क मार्ग से)
खटनोल से शाली टॉप (ट्रेक)

शिमला से खटनोल

इस ट्रेक के लिए शुरुआती बिंदु खतनोल गांव है जो शिमला से 35 किलोमीटर दूर है। आप शिमला से खटनोल तक एक निजी टैक्सी या एक स्थानीय बस से यात्रा पूरी कर सकते हैं। पर यदि हम बस के माध्यम से यात्रा पूरी करते है  तो वापस जाने के लिए भी आपको बस के  निर्धारित समय पर ही वापिस आना होगा । जिसे की आपको काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है इसलिए आप  निजी  वाहन का ही इ्तेमाल करे जिसे की आप इस ट्रैक का आनंद लेने में किसी भी प्रकार की  दिक्कत का सामना ना करना पड़े।
 

खटनोल से शाली टिब्बा ट्रेक:

आपके खतनोल गांव पहुंचने के बाद, शाली टिब्बा ट्रेक शुरू होता है। खतनोल से शाली टिब्बा की दूरी लगभग 7 किलोमीटर (एक रास्ता) है। बढ़ोतरी आसान है और इसे पूरा करने में 3 से 5 घंटे का समय लगेगा। आखिरकार आप शाली शिखर तक पहुँचने के बाद, आप शिमला के पास लगभग सभी प्रमुख चोटियों को देखेंगे।

नोट:

 खतनोल से शाली पीक की ओर 2kms आगे सड़क को बढ़ाया गया है। हालाँकि, हम अपना वाहन खतनोल में ही पार्क करने की सलाह देते हैं, क्योंकि सड़क समाप्त होने पर उचित पार्किंग उपलब्ध नहीं हो सकती है। साथ ही नवनिर्मित सड़क की हालत भी बहुत अच्छी नहीं है।

शाली टिब्बा ट्रेक  विवरण और रहने के विकल्प

ट्रेकिंग ट्रेल में ज्यादातर घने जंगल हैं और यह एक शानदार अनुभव प्रस्तुत करता है। यह जंगल तेंदुओं और अन्य वन्यजीवों का घर भी है। इसलिए, हम शाम और रात के समय के दौरान अकेले ट्रेकिंग करने की सलाह नहीं देते हैं। आप प्रकृति की सुंदरता को देखते हुए , आप शाली शिखर पर पहुंचेंगे, जहाँ से आपको विभिन्न हिमालयी श्रेणियों के अद्भुत दृश्य देखने को मिलेंगे।

शाली टिब्बा में रहने के विकल्प सीमित हैं क्योंकि शीर्ष पर कोई गेस्ट हाउस, या होटल नहीं हैं। मंदिर की सीढ़ियों के पास एक सराय (हॉल) है जो आपात स्थिति में उपलब्ध है। यदि आवश्यक हो तो आप मंदिर के पुजारी से चाबी मांग सकते हैं। सराय के पास शिविर लगाना भी एक संभावना है।

 हालांकि, हम उसी दिन ट्रेक को पूरा करने का सुझाव देंगे। एक शाली टिब्बा ट्रेक को जल्दी शुरू कर सकता है और शाम को  खटनोल तक आ सकता है और अभी भी शाली टॉप से ​​अद्भुत दृश्य का आनंद लेने के लिए बहुत समय है। हमें उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए शाली टिब्बा की यात्रा की योजना बनाने में मददगार रहा है। बेझिझक हमारी वेबसाइट पर अन्य लेखों की जाँच करें। हिमालयन ट्रैवलर 

"एक विनम्र अपील - कृपया सुनिश्चित करें कि निशान पर या मंदिर के पास किसी भी प्लास्टिक के रैपर, बोतल और किसी भी तरह के कचरे को न गिराएं। एक यात्री के रूप में, हिमालय को साफ रखना हमारी जिम्मेदारी है।



शिमला तक कैसे पहुंचे 


शिमला से खटनोल 42 किमी की दुरी पर स्थीत है।  जो की लगभग 2 घंटो में पूरा किया जा सकता है 

हवाई अड्डा सबसे नजदीकी हवाई अड्डा शिमला में ही है 

रेलवे स्टेशन सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन भी शिमला में ही है 

शिमला से आप आसानी से खटनोल पहुंच सकते है। 



शिमला की जानकारी आपको इस लिंक पर मिल जाएगी 

                                                    आपकी यात्रा मंगलमय हो 







टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

guchi mushroom

churdhar trek sirmour, himachal pardesh

bijli mahadev trek kullu, himachal