रोहतांग अटल टनल

चित्र
दुनिया की सबसे लंबी सुरंग 'अटल टनल' के नाम से  हिमाचल प्रदेश के रोहतांग में स्थित हैं  इस सुरंग की लम्बाई 9.02 किलोमिटर है। यह सुरंग समद्र तल से 10 हजार (यानी 3000 मीटर) 40 फीट की ऊंचाई पर स्थित है  यह दुनिया में सबसे लंबी और सबसे ऊंचाई पर बनी  राजमार्ग सुरंग  है जिसका उद्धघटन प्रधान मंत्री  नरेंद्रमोदी जी ने किया है यह उद्धघाटन शनिवार 3 अक्टूबर 2020 को प्रातः 10 बजे  किया गया। यह सुरग करीब 10.5मीटर चौड़ी और 5.52मीटर उंची हैं।
रोहतांग दर्रे की सुरंग को अटल टनल का नाम क्यों दिया गया? अटल बिहारी वाजपेई जब देश के प्रधानमंत्री थे तब 3जून 2000 को  अटल बिहारी बाजपेई जी ने रोहतांग दर्रे के नीचे रणनीतिक सुरंग का एक ऐतिहासिक निर्णय किया था यह अटल बिहारी जी का सपना था टनल की  आधारशिला 26 मई 2002को रखी गई थी तब केंद्रीय मंत्रालय की बैठक में अटल बिहारी जी को सम्मान के साथ इस टनल का नाम उनके नाम पे रखने का निर्णय लिया गया।और यह सुरंग आधुनिक तकनीक और संरचनाओं के साथ  साथ बनाई गई है जिसे की लेह- लद्दाख के किसानों, युवाओं और यात्रियों के लिए प्रगतिशील रास्ता खोल दिया है।

अटल टनल(सुरंग) राजमार…

Shali ka tibba


    एक ऐसा मंदिर जो की बहुत ही खुबसूरत होने के बावजूद भी दुनिया की नजरो से बहुत दूर है और उसकी प्राकृतिक सुंदरता और एकांत जो की आपके मन को मोह लेगी साथ ही साथ   आपको अलग ही शांति का असीम सुख प्राप्त करवाएगी शाली के टीबा  मां भीमकाली को समर्पित को समर्पित एक दिव्य मंदिर है इस दिव्यता को देखने यहां पर्यटक दूर- दूर से आते हैं।

                                जिसे लोग जन्नत कहते है 

                               वहीं जन्नत पहाड़ों पर आकर नसीब 

                                 हो जाया करती हैं

 


  शाली का टिबा  

   हिमाचल  प्रदेश के जिला शिमला के ठियोग में  स्थित  है। शाली का टीबा हिमालय   की गोद में  एक पहाड़ी पे बसा है  इस मंदिर का  नज़रा  बहुत खूबसूरत हैं। यह शिमला से 65 की0 मी0 की दूरी पर है यह हिमालय रेंज का एक विहगमदृष्य  प्रदान करता है  शाली का टीबा का ट्रैक( 2872m ) का है यह मंदिर माता भीमकाली को समर्पित है। माता शाली का एक और स्थान भी है जो उनके मुख्य स्थान से 2 की0 मी0 नीचे है 
 


  शाली के टीबे का वीहगम दृश्य

शाली का टिब्बा एक ऐसी चोटी है जिसको भुला पाना मुश्किल है  शाली के टीबे के चारो  तरफ देखने पर एक तरफ शिमला ओर दूसरी तरह मशोबरा  ओर तीसरी तरफ कुमरासैन जहां पहाड़ी पर बर्फ भी दिखाई देती है। चौथी तरफ  देखने पर ठियोग दिखाई देता है।  अपनी विशिष्टता के बावजूद, हालांकि, शिखर उतना ध्यान आकर्षित नहीं करता है जितना कि वह योग्य है। शाली टिब्बा, 9,423 फीट की ऊंचाई पर, शिमला, मशोबरा, कुफरी, फागू और नारकंडा से घिरा हुआ है। यह  चोटी हिमाचल प्रदेश के एक मनोरम 360 डिग्री दृश्य के लिए एक शानदार सुविधाजनक स्थान प्रदान करती है।

   

   यात्रा का वर्णन

बेस कैंप, खटनोल गांव की ओर जाने वाली सड़क, नीली पाइन और देवदार के जंगल की शांति और खूबसूरत घाटी से होकर गुजरता है। यह ट्रैक एक दिन में ही पूरा किया जा सकता है यहां का मौसम बहुत सुहाना ओर ठंडा रहता है। 


इतिहास और लोककथाएँ:

शाली टॉप देवी भीमा काली को समर्पित एक मंदिर है, जो स्थानीय लोगों द्वारा अत्यधिक पूजनीय है। भक्त विशेष रूप से नवरात्रि के दौरान नियमित रूप से यहां इस शीर्ष पर आते हैं। मंदिर का निर्माण लकड़ी और पत्थरों से किया गया है, जो कि ग्रामीण हिमालयी वास्तुकला का विशिष्ट है। मंदिर के लिए एक निशान का निर्माण 1936 में फरीदकोट के राजा द्वारा किया गया था। वही निशान आज मौजूद है और अच्छी हालत में है

 देवी शाली माता की  मान्यता 

 देवी भीमाकाली को समर्पित, यह मंदिर आस-पास के गांवों के बीच बहुत ही पवित्र स्थान रखता है। मुख्य मंदिर से 2की0मी0 नीचे एक ओर माता शाली का स्थान है कहा जाता है उस स्थान के दर्शन करना भी अति आवश्यक है यदि कोई भक्त  उस स्थान के दर्शन  करता है ओर शाली के टीबे की ओर अग्रसर होता है तो उसकी मानोकामना  शीघ्र ही पूरी हो जाती है।

 

शाली टिब्बा तक कैसे पहुंचे?

आप शाली टिब्बा की यात्रा को दो भागों में विभाजित कर सकते हैं।

शिमला से खतनोल (सड़क मार्ग से)
खटनोल से शाली टॉप (ट्रेक)

शिमला से खटनोल

इस ट्रेक के लिए शुरुआती बिंदु खतनोल गांव है जो शिमला से 35 किलोमीटर दूर है। आप शिमला से खटनोल तक एक निजी टैक्सी या एक स्थानीय बस से यात्रा पूरी कर सकते हैं। पर यदि हम बस के माध्यम से यात्रा पूरी करते है  तो वापस जाने के लिए भी आपको बस के  निर्धारित समय पर ही वापिस आना होगा । जिसे की आपको काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है इसलिए आप  निजी  वाहन का ही इ्तेमाल करे जिसे की आप इस ट्रैक का आनंद लेने में किसी भी प्रकार की  दिक्कत का सामना ना करना पड़े।
 

खटनोल से शाली टिब्बा ट्रेक:

आपके खतनोल गांव पहुंचने के बाद, शाली टिब्बा ट्रेक शुरू होता है। खतनोल से शाली टिब्बा की दूरी लगभग 7 किलोमीटर (एक रास्ता) है। बढ़ोतरी आसान है और इसे पूरा करने में 3 से 5 घंटे का समय लगेगा। आखिरकार आप शाली शिखर तक पहुँचने के बाद, आप शिमला के पास लगभग सभी प्रमुख चोटियों को देखेंगे।

नोट:

 खतनोल से शाली पीक की ओर 2kms आगे सड़क को बढ़ाया गया है। हालाँकि, हम अपना वाहन खतनोल में ही पार्क करने की सलाह देते हैं, क्योंकि सड़क समाप्त होने पर उचित पार्किंग उपलब्ध नहीं हो सकती है। साथ ही नवनिर्मित सड़क की हालत भी बहुत अच्छी नहीं है।

शाली टिब्बा ट्रेक  विवरण और रहने के विकल्प

ट्रेकिंग ट्रेल में ज्यादातर घने जंगल हैं और यह एक शानदार अनुभव प्रस्तुत करता है। यह जंगल तेंदुओं और अन्य वन्यजीवों का घर भी है। इसलिए, हम शाम और रात के समय के दौरान अकेले ट्रेकिंग करने की सलाह नहीं देते हैं। आप प्रकृति की सुंदरता को देखते हुए , आप शाली शिखर पर पहुंचेंगे, जहाँ से आपको विभिन्न हिमालयी श्रेणियों के अद्भुत दृश्य देखने को मिलेंगे।

शाली टिब्बा में रहने के विकल्प सीमित हैं क्योंकि शीर्ष पर कोई गेस्ट हाउस, या होटल नहीं हैं। मंदिर की सीढ़ियों के पास एक सराय (हॉल) है जो आपात स्थिति में उपलब्ध है। यदि आवश्यक हो तो आप मंदिर के पुजारी से चाबी मांग सकते हैं। सराय के पास शिविर लगाना भी एक संभावना है।

 हालांकि, हम उसी दिन ट्रेक को पूरा करने का सुझाव देंगे। एक शाली टिब्बा ट्रेक को जल्दी शुरू कर सकता है और शाम को  खटनोल तक आ सकता है और अभी भी शाली टॉप से ​​अद्भुत दृश्य का आनंद लेने के लिए बहुत समय है। हमें उम्मीद है कि यह लेख आपके लिए शाली टिब्बा की यात्रा की योजना बनाने में मददगार रहा है। बेझिझक हमारी वेबसाइट पर अन्य लेखों की जाँच करें। हिमालयन ट्रैवलर 

"एक विनम्र अपील - कृपया सुनिश्चित करें कि निशान पर या मंदिर के पास किसी भी प्लास्टिक के रैपर, बोतल और किसी भी तरह के कचरे को न गिराएं। एक यात्री के रूप में, हिमालय को साफ रखना हमारी जिम्मेदारी है।



शिमला तक कैसे पहुंचे 


शिमला से खटनोल 42 किमी की दुरी पर स्थीत है।  जो की लगभग 2 घंटो में पूरा किया जा सकता है 

हवाई अड्डा सबसे नजदीकी हवाई अड्डा शिमला में ही है 

रेलवे स्टेशन सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन भी शिमला में ही है 

शिमला से आप आसानी से खटनोल पहुंच सकते है। 



शिमला की जानकारी आपको इस लिंक पर मिल जाएगी 

                                                    आपकी यात्रा मंगलमय हो 







टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

guchi mushroom

churdhar trek sirmour, himachal pardesh

attitude status in phadi for whatsapp 2020