पोस्ट

सितंबर, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

रोहतांग अटल टनल

चित्र
दुनिया की सबसे लंबी सुरंग 'अटल टनल' के नाम से  हिमाचल प्रदेश के रोहतांग में स्थित हैं  इस सुरंग की लम्बाई 9.02 किलोमिटर है। यह सुरंग समद्र तल से 10 हजार (यानी 3000 मीटर) 40 फीट की ऊंचाई पर स्थित है  यह दुनिया में सबसे लंबी और सबसे ऊंचाई पर बनी  राजमार्ग सुरंग  है जिसका उद्धघटन प्रधान मंत्री  नरेंद्रमोदी जी ने किया है यह उद्धघाटन शनिवार 3 अक्टूबर 2020 को प्रातः 10 बजे  किया गया। यह सुरग करीब 10.5मीटर चौड़ी और 5.52मीटर उंची हैं।
रोहतांग दर्रे की सुरंग को अटल टनल का नाम क्यों दिया गया? अटल बिहारी वाजपेई जब देश के प्रधानमंत्री थे तब 3जून 2000 को  अटल बिहारी बाजपेई जी ने रोहतांग दर्रे के नीचे रणनीतिक सुरंग का एक ऐतिहासिक निर्णय किया था यह अटल बिहारी जी का सपना था टनल की  आधारशिला 26 मई 2002को रखी गई थी तब केंद्रीय मंत्रालय की बैठक में अटल बिहारी जी को सम्मान के साथ इस टनल का नाम उनके नाम पे रखने का निर्णय लिया गया।और यह सुरंग आधुनिक तकनीक और संरचनाओं के साथ  साथ बनाई गई है जिसे की लेह- लद्दाख के किसानों, युवाओं और यात्रियों के लिए प्रगतिशील रास्ता खोल दिया है।

अटल टनल(सुरंग) राजमार…

Kinnar Kailash Trek

चित्र
किन्नर कैलाश महादेव
किन्नर कैलाश महादेव का घर माना जाना है इसलिेए  यह स्थान  पूजनिय हैं यह किन्नौर मेंं स्तिथ है  किन्नर कैलाश पर्वत   की ऊंचाई  समन्दर  तल से 24 हजार फीट  है  किन्नर कैलाश के शिवलिंग की एक मुख्य विशेषता यह है कि यह शिवलिंग दिन में कई बार रंग बदलता है हिन्दू धर्म में आस्था मानने वाले लोग और जो लोग चोनौतपुर्ण ट्रैक करना चाहते है ये  उनके लिए यह उत्तम   स्थान है यह यात्रा  इतनी कठिन और दुर्गम है कि इस यात्रा को यात्री इसे अपने जीवनकाल में बस एक   बार  ही कर पाता है। यह यात्रा शुरू होने पर तीर्थयात्रियों के लिए विभिन्न प्रकार की सुविधाएं भी उपलब्ध हैं।


 किन्नर कैलाश का भगवत गीता में वर्णन किन्नर कैलाश जो पुरणो में भी वर्णिंत है भगवत गीता में भी इस से   बहुत महत्व दिया गया है जिसके अंदर भगवान श्री कृष्ण ने हिमालय पर्वत को अपना घर बताते हुए हैं  कहां है कि मेरा निवास पर्वतों के राजा हिमालय में है' किन्नर कैलाश पर्वत पुरानी कथाओं में भी बहुत महत्व रखता है  किन्नर कैलाश पर्वत श्रृंखला  एक उद्गम स्थल है जहां से हमारी पवित्र गंगा नदी का उद्गम होता है 

 किन्नर कैलाश की मान्यताए…